215 दिनों में दैनिक कोविड -19 मामलों में सबसे कम वृद्धि

facebook posts


स्वास्थ्य

ओई-पीटीआई

केंद्रीय स्वास्थ्य के अनुसार, भारत ने 18,132 नए कोरोनावायरस संक्रमण दर्ज किए, जो 215 दिनों में सबसे कम है, देश के कुल मामलों की संख्या 3,39,71,607 हो गई है, जबकि राष्ट्रीय COVID-19 वसूली दर बढ़कर 98 प्रतिशत हो गई है। मंत्रालय के आंकड़े सोमवार को अपडेट किए गए।

COVID-19: दैनिक मामलों में सबसे कम वृद्धि

193 ताजा मौतों के साथ मरने वालों की संख्या बढ़कर 4,50,782 हो गई।

सुबह 8 बजे अपडेट किए गए आंकड़ों के अनुसार, सक्रिय मामले घटकर 2,27,347 हो गए हैं, जो 209 दिनों में सबसे कम है।

लगातार 17 दिनों से नए कोरोनोवायरस संक्रमणों में दैनिक वृद्धि 30,000 से नीचे रही है और लगातार 106 दिनों से 50,000 से कम दैनिक नए मामले सामने आए हैं।

सक्रिय मामलों में कुल संक्रमणों का 0.67 प्रतिशत शामिल है, जो मार्च 2020 के बाद सबसे कम है।

सक्रिय COVID-19 केसलोएड में 24 घंटे की अवधि में 3,624 मामलों की कमी दर्ज की गई है।

देश में COVID-19 का पता लगाने के लिए अब तक किए गए कुल संचयी परीक्षणों को 58,36,31,490 तक ले जाते हुए रविवार को 10,35,797 परीक्षण किए गए।

दैनिक सकारात्मकता दर 1.75 प्रतिशत दर्ज की गई थी। पिछले 42 दिनों से यह तीन फीसदी से भी कम है। साप्ताहिक सकारात्मकता दर 1.53 प्रतिशत दर्ज की गई थी। मंत्रालय के मुताबिक पिछले 108 दिनों से यह तीन फीसदी से नीचे है।

बीमारी से ठीक होने वालों की संख्या बढ़कर

3,32,93,478, जबकि मामले की मृत्यु दर 1.33 प्रतिशत दर्ज की गई।

राष्ट्रव्यापी COVID-19 टीकाकरण अभियान के तहत अब तक देश में प्रशासित संचयी खुराक 95.19 करोड़ से अधिक हो गई है।

भारत का COVID-19 टैली 7 अगस्त, 2020 को 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख, 5 सितंबर को 40 लाख और 16 सितंबर को 50 लाख को पार कर गया था। यह 28 सितंबर को 60 लाख, 70 लाख को पार कर गया था। 11 अक्टूबर को, 29 अक्टूबर को 80 लाख, 20 नवंबर को 90 लाख और 19 दिसंबर को एक करोड़ का आंकड़ा पार किया।

दुर्गा पूजा के दौरान अपच को रोकने के 11 प्रभावी तरीके

भारत ने 4 मई को दो करोड़ और 23 जून को तीन करोड़ के गंभीर मील के पत्थर को पार कर लिया।

193 नए लोगों में केरल के 85 और महाराष्ट्र के 28 लोग शामिल हैं।

देश में अब तक कुल 4,50,782 लोगों की मौत हो चुकी है, जिनमें शामिल हैं

महाराष्ट्र से 1,39,542, कर्नाटक से 37,885, तमिलनाडु से 35,783, केरल से 26,258, दिल्ली से 25,089, उत्तर प्रदेश से 22,896 और पश्चिम बंगाल से 18,905।

मंत्रालय ने जोर देकर कहा कि 70 प्रतिशत से अधिक मौतें सहरुग्णता के कारण हुईं।

मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर कहा, “हमारे आंकड़ों का भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद के साथ मिलान किया जा रहा है।”

कहानी पहली बार प्रकाशित: सोमवार, 11 अक्टूबर, 2021, 12:31 [IST]

.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *